samajik kranti

Just another weblog

69 Posts

1987 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 7604 postid : 651826

कलयुगी गुरुगीता

  • SocialTwist Tell-a-Friend

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुर्गुरुर्देवो महेश्वरः।

गुरुरेव पर ब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः।।

गुरुमाहात्म तो सच्चा है, लेकिन तथाकथित गुरुलीला झूठी। यह समझना जरूरी है कि गुरु कौन होता है? सच्चे गुरु तो माता, पिता, आचार्य और अतिथि होते हैं। उनकी सेवा करनी और उसने  ज्ञान लेना देना शुष्य गुरु का काम है। किन्तु विद्वानों का कहना है कि जो गुरु लोभी, क्रोधी,  मोही और कामी है उसको सर्वदा छोड़ देना, शिक्षा करनी, सहज शिक्षा से न माने तो अघर्य, पाद्य अर्थात् ताड़ना दण्ड प्राण हरण तक भी करने में कुछ भी दोष नहीं।

आसाराम की किताब ‘श्री गुरुगीता’ में लिखा है..—— ‘गुरु को अपनी पत्नी भी सौंप देना चाहिए’………….

जो विद्यादि सद्गुणों में गुरुत्व नहीं है, झूठ-मूठ कण्ठी तिलक वेद-विरुद्ध मन्त्रोंपदेश करने वाले हैं वे गुरु ही नहीं किन्तु उस गड़रिये जैसे हैं जो अपनी भेड़ बकरियों से दूध आदि का प्रयोजन सिद्ध करते हैं। वैसे ही गुरु रुपी गड़रिया चेला चेली रूपी भेड़ बकिरयों की धन सम्पदा रूपी दूध दुहते हैं।

कहा भी गया है कि-

गुरु लोभी शिष लालची, दोनों खेलें दाव।

भवसागर में डूबते, बैठ के पत्थर नाव।।

भेड़ बकरियों का दुहें, दूध गड़रिया रोज।

नये शिष्यों की इसलिये, गुरु करते हैं खोज।।

सच्चे गुरु माता-पिता, अतिथि और आचार्य।

लें दें इनसे ज्ञान को, करिये सेवा कार्य।।

क्रोधी, मोही, लालची, काम से जो बीमार।

स्वप्न में भी ऐसा गुरु, करें नहीं स्वीकार।।

झूठ-मूठ कण्ठी तिलक, गुरु के गुण न एक।

दूर रहें उस गुरु से, जिसके नहीं विवेक।।

गुरु आज के सिखाते, जाने कैसा पाठ?

उल्टी शिक्षा दे रहे, सोला दूनी आठ।।

गुरुगीता रचकर कई, देते हैं उपदेश।

कामुक होते ये सभी, धरते गुरु का वेश।।

गुरु को सब अर्पित करो, पत्नि घर परिवार।

धनी शिष्य निर्धन बने, बढ़े गुरु व्यापार।।

चर्चा में अति इस समय, ढ़ोगी आसाराम।

नाम के आगे संत है, मुजरिम जैसे काम।।

गुरु बनाने पूर्व में, सब कुछ लीजे जान।

वैसै की गुरु कीजिये, पीते पानी छान।।

गुरु सोचे कुछ शिष्य दे, गुरु चेला से आस।

स्वार्थ और छल, झूठ से, दोनों का हो नाश।।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

seemakanwal के द्वारा
November 25, 2013

आदाब दिनेश जी बहुत समय बाद दिखे .बहुत ख़ुशी हो रही है आप को वापस देख कर .सादर आभार .

    dineshaastik के द्वारा
    November 26, 2013

    आदरणीय सीमा जी, प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिये हृदय से आभार।

vijay के द्वारा
November 23, 2013

आदरणीय भाई साहब नमस्ते काफी अन्तराल के बाद अपने बापसी की है लेकिन बहुत सुंदर वापसी है लेकिन आजकल गली गली में ऐसे गुरु है क्या करे सुंदर काव्य रचना बधाई

    dineshaastik के द्वारा
    November 26, 2013

    आदरणीय विजय जी, प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिये हृदय से आभार।


topic of the week



latest from jagran